Sunday, May 9, 2010

मेरी माँ

आज मदर डे है. आज मम्मी के बारे में बताता हूँ . मेरी मम्मी ही मेरी लाइफ है . सुबह उठने से लेकर रात हो सोने तक मेरी पुरी लाइफ मम्मी के इर्द गिर्द ही चक्कर काटती रहती है . सुबह उठने ही रोने लगता हूँ , मम्मी दूध का बोतल तैयार रखती है, आज तक ये बोतल कभी लेट नहीं हुई है . मेरी हर जरुरत को मम्मी संभालती है , मुझे अगले घंटे क्या चाहिए मम्मी को पता होता है . मम्मी मेरे लाइफ में क्या है , ये शब्दों में बताना मुश्किल है. अब कल की ही बात बताता हूँ मै कल रात तीन बजे अचानक डरकर उठ गया और रोने लगा. मम्मी और पापा दोनों जग गए . मै रोये ही जा रहा था , मम्मी पापा दोनों मुझे चुप करा रहे थे , पर मै बहुत दर गया था और रोये ही जा रहा था . आधा घंटा गुजर गया पर मै चुप नहीं हुआ , पापा फिर सो गए मम्मी मुझे लेकर बैठी रही , कभी फुसलाती , कभी लोरी सुनाती . मै पांच बजे जाकर सोया तब तक मम्मी मेरे लिए जगी रही .
मम्मी मेरे लिए मेरा जहां है ...........................................





मै अपनी मम्मी के साथ


मै अपनी मम्मी के साथ



मम्मी -पापा दोनों के साथ

2 comments:

अजय कुमार said...

संसार की समस्त माताओं को नमन

अक्षिता (पाखी) said...

मदर्स डे की बधाई . आज ममा लोगों का दिन है, सो कोई शरारत नहीं केवल प्यार और प्यार !!

____________________________
पाखी की दुनिया में 'मम्मी मेरी सबसे प्यारी' !

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates