Friday, September 10, 2010

राघव भैया के साथ मस्ती


हरिद्वार में मुंडन कराने के बाद हम सब दिल्ली लौट आये . मै , मम्मी ,पापा , बुआ , बड़ी मम्मी दादी , राघव भैया और बुआ की छोटी नन्ही परी ( उम्र -दो महीने ). राघव भैया के साथ मेरी खूब पटी. पापा में हम दोनों को एक एक खिलौना खरीद दिया . हम दोनों उस से खूब खेले . राघव भैया के साथ दो तीन दिन का साथ बहुत अच्छा रहा .बुआ की नवजात पुत्री ( नन्ही परी ) को देखकर मेरे अंदर खूब उत्सुकता रही , उसको रोता देख मै तुरंत चुप कराने के लिए बुआ /मम्मी से कहता . यहाँ पर मै भैया के रोल में आ गया था . मै उसे बाबू बुलाता था . नन्ही परी और राघव भैया अब दिल्ली में मेरे साथ नहीं है पर उनकी बहुत याद आती है .




राघव और माधव
राघव और माधव

राघव और माधव

नन्ही परी


5 comments:

Udan Tashtari said...

खूब मस्ती छनी है..:)

राज भाटिय़ा said...

खुब मस्ती कर रहे हो ओर हमे भी डरा रहे हो भाई इस नकली पिस्तोल से, बाबा बहुत डर लग रहा है....

Chinmayee said...

मज़ा आया मस्ती देखके

Babli said...

आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें ! भगवान श्री गणेश आपको एवं आपके परिवार को सुख-स्मृद्धि प्रदान करें !
बहुत सुन्दर !

रानीविशाल said...

अरे वाह :)
गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें
अनुष्का

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates