Tuesday, September 7, 2010

मुंडन संस्कार(चुड़ा कर्म )और विद्यारंभ संस्कार, 03/09/2010


वैसे तो ये पोस्ट मै कल बुधवार को लिखता , पर कल शाम को बक्सर से नाना नानी का फोन आ गया , उन्होंने मेरे मुंडन की तस्वीर जल्द से जल्द ब्लॉग पर डालने को कहा , सो पापा आज ही ये पोस्ट लिख रहे है . मै बता दु की मेरे नाना नानी कंप्यूटर जानते है, रोज मेरा ब्लॉग पढते है और फोन करके अपना कमेन्ट देते है .

०३ सितम्बर २०१० को मेरा मुंडन संस्कार होना था . पिछले दिन दिल्ली से हरिद्वार की यात्रा , फिर हरिद्वार भ्रमण से थकान हो गयी सो मै जल्द सो गया .रात में बारह बजे मेरी दादी , बुआ , बड़ी मम्मी , राघव भैया और बुआ की लड़की भी आरा से हरिद्वार पहुच गए . सुबह में पांच बजे मम्मी ने मुझे जगाया , शांति कुञ्ज में विद्यारंभ संस्कार ब्रह्म मुहूर्त में होता है . पाच बजे नहा धोकर, मम्मी ने मुझे नए कपडे पहनाए और हम सभी विद्यारंभ संस्कार के लिए यज्ञ शाला में गए . वहाँ पर वैदिक रीती रिवाज़ से मेरा विद्यारंभ संस्कार संपन्न हुआ , आखिर में मुझसे कलम से गायत्री मंत्र लिखवाया गया , मुझे लिखना कहा आता है , अभी सीधी लकीर भी नहीं खींच सकता , वो तो मम्मी ने मेरा हाथ पकड कर मुझसे गायत्री मन्त्र लिखवाया . मेरे साथ- साथ राघव भैया का भी विद्यारंभ संस्कार हुआ .


इसके बाद सुबह दस बजे मुंडन संस्कार होना था. हरिद्वार में तेज बारिस शुरू हो गयी. खैर, तेज बारिस के बीच ही मेरा मुंडन (चुड़ा कर्म ) संस्कार शुरू हुआ, पूजा पाठ हुआ, मेरे बाल में दही लगाया गया फिर नाई उस्तरा लेकर मेरी तरफ बढ़ा , मै डर के मारे चिल्लाने लगा , हाथ पैर मारने लगा , नाई पीछे हट गया , फिर मुझे मम्मी , बड़ी मम्मी , बुआ सबने मिलकर मुझे पकड़ा , तब जाकर मेरे बाल कटे , पर मै लगातार रोता रहा . रो रोकर मै थक गया .






मुंडन से ठीक पहले की तस्वीर




राघव भैया के साथ मुंडन के ठीक पहली की तस्वीर
मुंडन के ठीक बाद की तस्वीर
मुंडन के दौरान की तस्वीर , खूब रोया था मै

कैसा लग रहा हूँ , गंजा माधव

मम्मी और दादी के साथ

मम्मी पापा के साथ

बुआ के साथ

20 comments:

कविता रावत said...

bahut achha laga Madhav ka pyara blog... Tasveeron se ghar ki jankari mili... aap mere blog par aaye achha laga... Tasver Delhi metro ki thi sahi pahachana aapne... akhir bhaiya ji Delhi mein jo rahte hai. waise Mera Sasural bhi to Delhi mein hi hai....Aati-Jaati rahti hun. Gaon ke bahut se log rahte hai...
Madhav bhiya ji khoob padhna aur gharwalon ko jyada pareshan nahi karna... mera beta abhi KG-I mein esi saal se gaya hai....
Der sari haardik shubhkamnaon sahit....

Chinmayee said...

गोटू गोटू लग रहे हो माधवा..:-)

सुलभ § Sulabh said...

माधव सच कहूँ, आज की तुम्हारी पोस्ट पढ़ मजा आ गया... बहुत प्यारे लग रहे हो. सभी फोटो सुन्दर हैं.
मैं बचपन में रोने के बाद जलेबी मांगता था :) :)

शुभम जैन said...

bahut achche tarike se tumhara mumdan aur vidhyarambh sanskar hua...dhero shubhkamnaye v aashish tumhe....aur payare madhav hamesh aki tarah hi tum cute lag rhe ho ya shayad thode jyada cute lag rhe ho... :)

hamehsa khush raho...hanste raho...
pyar...

Pankhuri Times said...

माधव भैया बहुत प्यारे लग रहे हैं आप. पता है मेरे भी पहले खूब प्यारे - प्यारे बाल थे लेकिन मुंडन के बाद मैं भी तकलू हो गयी और सबने रिएक्शन दिया -- अरे वाह .., चाँद का टुकडा तो अब पूरा गोल चाँद हो गया .. तो मेरा भी यही कमेन्ट आपके लिये. मैं अब नानी के घर से लौट कर आ चुकी हूँ और शैतानियों की नयी इनिंग भी शुरू कर दी है. और हाँ आप तो माधव हैं न तो जन्माष्टमी पर क्या किया आपने ?

माधव said...

@ कविता रावत

thanx for such nice comment

माधव said...

@ Pankhuri Times

thanx for such nice comment. On jamashtami, i was on the way to Haridwar

vivekmishra001 said...

Nice Snaps

Gopal Singh said...

madhav is rocking. you look like a dasher in

Gopal Singh said...

and one more thing,thanx for teaching us the sanskar

प्रदीप कांत said...

VAH BHAI VAH...............

सैयद | Syed said...

अरे ये क्या हुआ ?

नीलम शर्मा अंशु said...

अरे, बिलकुल सुदामा जैसे लग रहे हो।
हमारा कान्हा रोता भी है, यह तो पहली बार देखा।


सभी तस्वीरें बहुत खूबसूरत हैं। बधाई शोना।

नीलम शर्मा अंशु said...

अरे, बिलकुल सुदामा जैसे लग रहे हो।
हमारा कान्हा रोता भी है, यह तो पहली बार देखा।


सभी तस्वीरें बहुत खूबसूरत हैं। बधाई शोना।

Udan Tashtari said...

हा हा!! बहुत सुन्दर लग रहे हो जी...मजा आया.

अब नया पाठ शुरु..खूब तरक्की करो. मेहनत से पढ़ो...आशीर्वाद!

रंजन said...

छा गए प्यारे.. बाल फिर आ जायेगें..

प्यार.

सम्वेदना के स्वर said...

गंजू पटेल को ढेर सारा प्यार!

पी.सी.गोदियाल said...

मुंडन संस्कार की बधाई माधव !

रावेंद्रकुमार रवि said...

अरे, रोते क्यों हो?
--
अब तो और भी अधिक अच्छे बाल उगेंगे!
--
लगने को तो ऐसे भी बहुत अच्छे लग रहे हो!

Ashish (Ashu) said...

वाह सुना था कि माधव का मुण्डन होने वाल था..पर समय के अभाव मे आज देख पाया..अच्छे लग रहे हो :)

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates