Friday, November 27, 2009

व्यापार मेला २००९ , प्रगती मैदान , दिल्ली , भाग -1

२५ नवम्बर २००९ को व्यापार मेला देखने मै मम्मी , पापा और मामा के साथ प्रगति मैदान पहुचा. बहुत बड़ा मैदान था , कई हाल थे, खाने की दुकाने थी , साथ में एक झील भी थी. मेले में बहुत भीड़ थी, अपने स्वाभाव के चलते पहले तो मै थोड़ा डरा डरा सा रहा , फिर बाद में नोर्मल हो गया . पहले हम झारखंड पवेलियन में गए , झारखण्ड के बारे में समझा , उसके सामने उतर प्रदेश का पवेलियन थी , हम वहा भी गए , उतर प्रदेश पवेलियन में बहुत भीड़ थी .सो मजा नहीं आया . अब तक हम सभी थक गए तो मानसरोवर झील के पास बैठ गए . थोड़ी देर बाद मम्मी चोवमीन और लिम्का खरीद कर लाई . उसे देखकर मै उस पर टूट पडा और खुद से ही निकाल कर खाने की कोशीश करने लगा , पापा यह देखकर हैरान रह गए . मम्मी ने तब बोतल का दूध मेरी तरफ बढाया पर मै तो चोवमीन और लिम्का का दीवाना था , तो दूध कहा से पीता, तो दूध को छोड़ दिया और चोवमीन और लिम्का को ही प्राथमिकता दी .
आगे की कहानी कल बताउंगा , तब तक आप ये फोटू देखे












1 comments:

संजय भास्कर said...

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates