Thursday, November 5, 2009

पापा की लोरी : घुघुआ मामा

पापा ये लोरी मुझे रोज सुनाते है, अपने पैरों पर चढा कर .भोजपुरी भाषा की ये लोरी अगर आप समझ सकते है तो इसका अर्थ मुझे बताये

घुघुआ मामा
उपजे धामा
एही मुहे आवे ले
बबुआ के मामा
नाक कान छेदा देले
लडुआ टिकरी थमा देले
घोडा पे चढा देले
घोडा दौडा देले
हम मंगनी तो ना देले
बुधिया माई आई तो हमार दोष ना हो

1 comments:

सैयद | Syed said...

समझ में तो नहीं आया :)

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates