Monday, November 16, 2009

हकीकत नगर की कचोरिया और गुलाब जामुन

कल सुबह नींद खुली तो मम्मी पापा दोनों नहीं थे .मम्मी का एक्साम था और पापा मम्मी को लेकर एक्साम सेंटर पर छोड़ने गए थे , सुबह ही मामा शिमला से आ गए थे तो मामा घर पर थे . थोड़ी देर बाद पापा मम्मी को एक्साम सेंटर पर छोड़कर घर आ गए . मैंने अपने दिनचर्या रोज के काम से शुरू की पर मम्मी के ना होने से कुछ खाली खाली सा लग रहा था . पापा और मामा नास्ते के लिए हकीकत नगर की कचौरी खाने मुझे साथ लेकर गए . हकीकत नगर के गली नंबर ०७ में ये दूकान स्थित है जहां दाल भरी हुई खस्ता कचौरियां , ब्रेड पकौड़े , आलू पकौड़े और गरमा गर्म गुलाब जामुन मिलता है . पापा और मामा ने दो दो कचौरियां ली , मैंने दोनों में से शेयर किया . फिर पापा ने एक ब्रेड पकौडा लिया . आखिर में दोनों ने दो दो गुलाब जामुन लिया , जो मुझे सबसे अच्छा लगा . मैंने गुलाब जामुन खूब चाव से खाया . उसके बाद हम घर को आ गए . अब मै मम्मी को खोजने लगा था , और मै रोने लगा , पापा समझे की भूख से रो रहा है सो उन्होंने मेरे बोतल में मुझे दूध दिया , दूध गर्म था सो मैंने नहीं पी फिर मामा ने वो दूध को ठंडा कर के मुझे दिया , मैंने थोड़ा सा दूध पीया और फिर रोने लगा . अब पापा मुझे बहलाने के लिए बाहर ले गए , मम्मी से जुदाई का गम मुझे बर्दास्त नहीं हो रहा था और रह रह कर मम्मी की याद मुझे रुला रही थी . तकरीबन दो दोपहर को मम्मी आई और आते ही मै मम्मी की गोद में समा गया .
गली नंबर -07 हकीकत नगर , किंग्सवे कैंप दिल्ली-7

mouthwatering






कचौरियों का स्वाद भी लाजवाब था


गरमा गरम गुलाब जामुन मुझे बहुत अच्छे लगे


गली नंबर -07 हकीकत नगर , किंग्सवे कैंप दिल्ली-7

2 comments:

सैयद | Syed said...

भैया... ललचा रहे हो हमें :)

संगीता पुरी said...

इतने लालची मत बनो .. संतोषं परम् सुखम !!

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates