Thursday, October 7, 2010

एक प्रयोग चाभी के साथ


पापा जब भी बाइक या गाड़ी से जाते है , सबसे पहले उसमे चाभी घुमाते है फिर बाइक /गाड़ी चालु हो जाती है . अब इस चीज को मैंने भी अपना लिया है . अपनी खिलौना गाड़ी में भी मै पापा के बाइक और गाड़ी की चाभी डालकर चलाने लगा हूँ . है ना एक अच्छा प्रयोग.









आज कल दिल्ली के आसमान में बहुत हेलिकॉप्टर नजर आ रहे है. मै ट्रेन और हेलिकॉप्टर को देख कर बहुत खुश होता हूँ , ये दोनों चीजें मुझे बहुत आकर्षित करती है . अब जब भी हेलीकाप्टर की घड घड सुनाई देता है , दौड़ा -दौड़ा बालकोनी में आता हूँ , सर आसमान के करके हेलीकाप्टर देखता हूँ . दिख जाए तो चिल्ला चिल्ला कर ताली बजाता हूँ और ना दीखे तो इधर -उधर उड़ते कबूतरों को देख कर ही खुश हो जाता हूँ .



हेलीकाप्टर दिखा

नहीं दिखा


थोड़ा और सर घुमाता हूँ शायद दिख जाए

पिजन (pigeon) तो दिखा

4 comments:

वीना said...

बस ऐसे ही प्रयोग करते रहो... आप बड़े भी हो जाओगे...और जब बड़े हो जाओ तब चलाना असली वाली गाड़ी

विरेन्द्र सिंह चौहान said...

वीना जी ने ठीक कहा है...माधव..फिलहाल तो ऐसे ही काम चलाओ ....

रानीविशाल said...

प्रयोग तो अच्छा है .....अब जल्दी जल्दी बड़े हो जाओ ताकि असली वाली गाड़ी में यह प्रयोग सार्थक हो जाए :)
प्यार
नन्ही ब्लॉगर
अनुष्का

abhi said...

हा हा सही है, लगे रहो बेटे :)

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates