Monday, October 4, 2010

मम्मी की कलम


मेरे लिए मम्मी ने ये चित्र बनाए है . दरअसल मै कलम और पेन लेकर मम्मी को बहुत सारी चीजे बनाने को कहता हूँ , जैसे कैट, डॉगी, काईट. मम्मी मेरे लिए ये सब पन्ने पर उकेरती है. पापा को भी इस काम के लिए बहुत परेशान करता हूँ ,पर पापा को चित्र बनाना नहीं आता है , बस काटू बनाते है जो ब्लॉग पर डालने लायक नहीं है .




ऊपर कैट और नीचे माउस है


ट्रेन छुक छुक

वैसे कल जैसी सुन्दर दिल्ली पहले कभी नहीं दिखी . दिल्ली दुल्हन की तरह सजी हुई दिख रही है, रोड पर इतनी साफ़ सफाई कभी नहीं दिखी . रंगीन टाईलें, गमले में पोधे , सजा फुटपाथ , कमाल की लग रही है दिल्ली . कल ( ) दिल्ली पूरी की पूरी बंद थी . सारे दूकान , सभी प्रतिष्ठान बंद थे . राष्ट्र मंडल खेल उदघाटन के चलते सब कुछ जबरदस्त था . शाम में टहलने के लिए पापा मम्मी के साथ माल रोड पर निकला ,दुधिया-पीली रोशनी में शहर नहाया हुआ था , आप भी देख ले..



माल रोड


माल रोड

13 comments:

Ranjan said...

सर पर बाल आ रहे है.. :)

बहुत सुन्दर केट है दोस्त..

चैतन्य शर्मा said...

हमारी ममा कितना कुछ करती हैं न हमारे लिए .....हमें भी उनकी बात माननी चाहिए...... है न माधव....

कैट और माउस दोनों क्यूट हैं .......

रानीविशाल said...

आंटी ने बड़े प्यारे प्यारे चित्र बनाए है तुम्हारे लिए ......दिल्ली की जगमगाहट दिखने के लिए धन्यवाद !
नन्ही ब्लॉगर
अनुष्का

राज भाटिय़ा said...

चित्र बहुत सुंदर लगे माधव , राम राम

शुभम जैन said...

बहुत सुन्दर चित्र...और माधव तो अपना है ही हीरो...

Akshita (Pakhi) said...

अले वाह, एक से बढ़कर एक..

.Say my regards to Aunty ji.
___________________
'पाखी की दुनिया' में अंडमान के टेस्टी-टेस्टी केले .

रावेंद्रकुमार रवि said...

----------------------------------------
मम्मी की क़लम से तो
बहुत बढ़िया तस्वीरें बनकर सामने आई हैं!

----------------------------------------

SINGHSADAN said...

बहुत प्यारे.....मनभावन चित्र.....!

Saba Akbar said...

आपकी मम्मा ने तो कैट और माउस दोनों ही बहुत सुन्दर बनाये हैं. :)

सत्यप्रकाश पाण्डेय said...

बहुत प्यारे चित्र बनाए है.

यहाँ भी पधारें:-
ऐ कॉमनवेल्थ तेरे प्यार में

वन्दना said...

मनमोहक्……………सुन्दर्।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

सुन्दर चित्र हैं!
--
आपकी इस पोस्ट की चर्चा
बाल चर्चा मंच पर भी की गई है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/21.html

jai said...

this is awsome

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates