Thursday, January 21, 2010

मेरा दुसरा जन्मदिन

पिछले १६ जनवरी 2010 को मेरा दुसरा जन्मदिन था . जन्मदिन पर पापा मेरे पास नहीं है वो दिल्ली में है और मेरे जन्मदिन पर मुझसे मिलने नहीं आये , बताया की छुट्टी नहीं मिली . उन्होंने सुबह में मम्मी को फोन किया और मेरा हाल चाल लिया और मुझे HAPPT BIRTH DAY कहा . खैर जन्म दिन के दिन बड़े पापा और बड़ी मम्मी नवानगर ( नवोदय विद्यालय ) से मुझसे मिलने आये . बड़ी मम्मी ने मुझे कपडे खरीदे और वही कपडे मैंने पहने . कपडे में मै हीरो लग रहा था . दादी ने मेरे जन्म दिन पर सत्यनारायण भगवान् की कथा का आयोजन कराया ( दादी केक काटने और मोमबती बुझाने की प्रबल विरोधी है ). कथा सुनने के लिए दादी मुझे गोद में लेकर बैठी पर मै कहाँ बैठने वाला था , मै दादी के गोद से भाग चला . पुरी कथा दादी ने सूनी . इधर एक अच्छी आदत दादा दादी में मुझे सिखाई है , मै सबके पैर छूकर प्रणाम करता हूँ . तो जन्म दिन के दिन बहुत सारे लोग मेरे घर आये और मैंने भेड़ चाल में सबका पैर छूकर प्रणाम किया , सारे लोग गदगद हो गए आखिर दो साल के बच्चे में ये संस्कार कैसे आ गए ? सबसे ज्यादा प्रभावित हुए कथा वाचक पंडितजी . कथा होने के बाद कुछ चुने हुवे लोगों ने खाना भी खाया . दिन भर की तमाम हलचलों के बाद मै थक गया और शाम को चार बजे मै माता के आँचल में जाकर सो गया . रात को दिल्ली से पापा का फोन आया और उन्होंने मेरे बारे में पूछा पर मै तो सो चुका था , पापा ने मुझे बहुत मिस किया .

2 comments:

महेन्द्र मिश्र said...

भैय्या बधाई हो जन्मदिन की चिरायु हो...

Udan Tashtari said...

लो, हमें तो मालूम ही नहिम चल पाया. चलो, अब निकालो केक और ढेर सा आशीष तुमको....

खूब तरक्की करो!!


अब केक?? :)

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates