Wednesday, December 22, 2010

पहला हेयर कट


माधव का मुंडन तीन सितम्बर २०१० को हुआ था . बाल तो अभी अभी थोड़े थोड़े ही बड़े हुए है पर साइड की कलम बड़ी हो गयी है . आरा में ही मै माधव को लेकर नाई की दूकान पर गया था पर माधव ने बाल नहीं कटाए . कुर्सी पर बैठते ही खूब जोर जोर से चिल्लाने लगा . उसका रौद्र रूप देख नाई की भी काटने की हिम्मत नहीं हुई , उसने मना कर दिया और बोला कि जब बच्चा थोड़ा और बड़ा हो जाए तब कटवा लेना.

खैर उसके बाद हम दिल्ली आ गए . दिल्ली में मै और माधव की मम्मी , माधव को लेकर बिग बॉस नामक एक सलून में गए . मगर जनाब वहाँ भी अकड गए , "मुझे बाल नहीं कटाना है " कह कर रोने लगा . मम्मी को लगा मेरा बेटा मेरी बात नहीं टालेगा, सो उन्होंने माधव को खूब फुसलाया , मनाया और आखिर में धमकाया भी , पर रिजल्ट शून्य रहा . मै माधव को लेकर बैरंग ( बिना बाल कटे ) घर आ गया . सोचा फिर कभी !

पर ११ दिसंबर, २०१० को माधव के मामा घर आये . माधव का अपने मामा से खूब पटती है . बातो बातो में माधव अपने मामा के साथ उसी सैलून में गया और बाल कटवा लिए . जब मामा -भांजा घर आये तो हम माधव के कटे बाल देख हैरान रह गए . सच ही कहा है बच्चा का दिल राजा का होता है , वही करता है जो उसका मन करता है .




बाल काटने से पहले


बाल काटने के बाद

5 comments:

शुभम जैन said...

oye oye hiro hiralal...hair cut ke baad to ekdum mast lag rhe ho...bole to jhakaasss :D

shekhar suman said...

अजी बाल मन तो अनूठा है,,जब जो जी आएगा वही होगा...
बड़े अच्छे लग रहे हो माधव...:D

राज भाटिय़ा said...

अरे माधब यार बाल तो घर की खेती हे, जितने काटेगा उतने बढेगे, अगली बार हंस कर कटवाना,इस बार तो वो नाई अकंल भी डर गये थे:)

अनुष्का 'ईवा' said...

हेयर कट के बाद जच रहे हो माधव :)
मामाजी का गुरुमंत्र काम कर गया हाँ ....!!
मेरे ब्लॉग पर देखें क्रिसमस फंक्शन और सेंटा से मुलाकात

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

ARE BHAIYA MADHAV,
tmhari to har baat nirali hai!

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates