Saturday, December 4, 2010

मेरी नानी


सरसों के तेल से गुनगुनी धुप में मालिस

पहले पैर

अब हाथ


फिर उंगलियां
नो फोटो प्लीज़



आखिर में सिर


3 comments:

Udan Tashtari said...

:) So cute!!!!!

Shekhar Suman said...

खूब मालिश करो और तंदरुस्त बनो....
ढेर सारा प्यार ....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

प्यार भरा आशीर्वाद!
--
आपको पोस्ट की चर्चा बाल चर्चा मंच पर भी है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/12/30.html

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates