Monday, January 14, 2013

छुटियाँ खत्म , स्कुल शुरू

परसों माधव वापस दिल्ली आ गए . ट्रेन से उतरते ही बोले " पापा  मै क्रिकेट  खेलता हूँ और छक्के मारता हूँ" . बीस दिन माधव दिल्ली से बाहर रहे . नवानगर , आरा और बक्सर के बीस दिन के प्रवास मे माधव का बौद्धिक और सामान्य जानकारी छह महीने बढ़ गयी है . 


बीस दिन के प्रवास मे माधव "क्रिकेटमैनिया" से ग्रस्त होकर आये है . दिन भर मुझसे बोलिंग करवाते है और छक्के मारते है .  


दिल्ली मे ठण्ड भी अब सामान्य हो गयी है . आज माधव का स्कुल भी खुल गया है . जिंदगी फिर पुरानी पटरी पर आ गई है . आज इलाहाबाद मे कुम्भ-2012  का पहला शाही स्नान है. 


मकर संक्राति की शुभकामनाए . 

1 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बधाई!
मकरसंक्रान्ति की शुभकामनाएँ।

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates