Saturday, October 6, 2012

बाल रचनाशीलता

माधव का मन रचनाशील ( Creative) लग रहा है. कुछ काम बिलकुल मौलिक (Original) और अपने दिल से करता है फिर मुझे बुला कर दिखाता है . मै सोच मे पड़ जाता है, कि ये बाल मन क्या क्या सोच रहा है ?

अभी अभी मुझे बुलाकर अपने कमरे मे ले गया , "पापा !....चलो एक चीज  दिखाता हूं . मैंने एक कार बनायी है ". 
क्रेयान से जोड़कर कार बनायी गई थी . 

   क्रेयान से बनी कार 

1 comments:

भावना said...

madahav to bahut badhiya car banata hai..pichale saal rudra ne bhi crayon ko seedha seedha jodate hue train banai thi aur mujhe laga rangeen rekha banai hai...khoob explore karo ideas aur colours ko ...good wishes always :)

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates