Wednesday, January 12, 2011

दादी की गंगा सागर की धर्म यात्रा


मेरी दो दादीयाँ पिछले दिनों गंगा सागर की यात्रा पर निकली है. उनकी मंजिल मकर संक्रांती यानी १४ जनवरी को गंगा सागर पर दुबकी लगाने की है .गंगासागर पर उस दिन बहुत बड़ा मेला लगता है .यात्रा देवघर , गंगासागर , जगन्नाथपुरी, तिरुपती बालाजी , मद्रास . मदुरै , रामेश्वरम , कन्याकुमारी , नासिक ,उज्जैन , पुष्कर , मथुरा , चित्रकूट तक की है . मेरी दोनों दादी धर्म परायण है .मेरी इश्वर से प्रार्थना है कि ईश्वर उनकी इस धर्म यात्रा को सफल बनाएँ .





बड़ी दादी


छोटी दादी

5 comments:

नीरज जाट जी said...

अरे भाई, दादी के साथ पोते को भी जाना चाहिये था। अभी कौन सा स्कूल के दिन हैं।
भाई, थोडा बहुत घूम घाम ले, आने वाले दिन तेरे लिये बहुत बिजी होंगे।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

आपकी दादी जी को हार्दिक शुभकामनाएं।

---------
सांपों को दुध पिलाना पुण्‍य का काम है?

Vijai Mathur said...

हमारी शुभकामनायें तुम सब लोगों के साथ हैं.

राज भाटिय़ा said...

हार्दिक शुभकामनाएं।

Patali-The-Village said...

हार्दिक शुभकामनाएं।

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates