Friday, March 26, 2010

खेल खेल में



















खेलने का असली मजा समूह में ही है . बिल्कुल बेफिक्र , बिंदास अपनों के बीच में खेलना . चिल्ल्लाना , चीखना , मरना , बहती हवा सा , बिलकुल अल्हड . आरा में वर्षा दीदी , ऋतू दीदी , राघव भैयाँ और मुह्हल्ले के कुछ और हम उम्र के साथ खेलने में बहुत मजा आता था . . ओका बोका ,आइस - पाइस( चोरी -छुपना ) और बहुत से खेल जिनको ओलम्पिक में जगह मिलनी चाहिए , हम खेलते थे , हमारे खेल में कोई हारता नहीं था , न ही कोई प्रथम या द्वितीय आता , बल्कि हर कोई जीतता था . दिल्ली में मै ये सब बहुत मिस करता हूँ . यहाँ दिल्ली में व्यक्तिगत परिवार में ये कहाँ मुमकिन है !

2 comments:

संजय भास्कर said...

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

Udan Tashtari said...

खूब खेले..शाबास!

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates