Wednesday, May 4, 2011

ततैया/बर्रे /मधुमक्खी

कल शाम को माधव को एक ततैया(बर्रे मधुमक्खी) ने काट लिया . मै सोफा पर बैठा था तभी कही से उड़ते हुआ एक ततैया(बर्रे /मधुमक्खी) आया और माधव के गाल पर डंक मार दिया . माधव दर्द से रोने लगा , ततैया/बर्रे /मधुमक्खी काटने का दर्द एक तीन साल के बच्चे के लिए बहुत होता है . मै घबरा गया , माधव की मम्मी जल्दी से किचेन में फ्रीज से बर्फ के टुकड़े लाइ और डंक वाली जगह पर लगाने लगी . बच्चे का दर्द और रोना देखकर , कलेजा फटा जा रहा था . भगवान से दुआ की कि मेरा बेटा जल्द ठीक हो जाए , दुआ कुबूल हुई और माधव पांच मिनट बाद ठीक हो गया .


पडोसियो ने कई सुझाव दिया जैसे कि लोहे की चाबी डंक वाली जगह पर लगाईं जाय, केरोसीन तेल लगाया जाय . ततैया/बर्रे /मधुमक्खी के काटने पर घरेलु नुस्खे कई है पता नहीं ये कितनी प्रभावी है . पर माधव जी पांच मिनट में ठीक हो गए और हमारे लिए सबसे अच्छी बात यही थी .

आधे घंटे के बाद ततैया महाराज कमरे में फिर दिखे ,अब डंक खाने की बारी उनकी थी .


7 comments:

रंजन (Ranjan) said...

लोहे की चाबी.. बेस्ट है... मैंने भी बहुत इस्तेमाल की है बचपन मैं...

Shah Nawaz said...

tataiye ka kya hua? :-)

राज भाटिय़ा said...

माधब यार शेर बन ओर सुन, केमिस्ट से एक fenistil नाम की एक ट्युब मिलती हे, यह घर मे रख लो जब भी ततैया, मच्छर, बर, या कोई ऎसा जंतू लडे तो देशी इलाज के बाद इसे लगा लो, जिस से जलन भी एक दम से हट जायेगी, ओर उन जीब का डंक का असर भी खत्म हो जायेगा, यानि उस का जहर भी निकल जायेगा, यह भारत मे जरुर मिलती होगी, अगर नही तो गुगल मे इस का नाम दे कर ढुढ लो,

mrityunjay kumar rai said...

thanx Bhatiya jee for Advise

Coral said...

बाप रे बच्चा का हाल क्या हुआ होगा समाझ सकते है ......


मोहसिन रिक्शावाला
आज कल व्यस्त हू -- I'm so busy now a days-रिमझिम

Saba Akbar said...

ततैया को डंक किसने मारा :D

mandeep verma said...

बाद में सोजिश मे क्या करें, ,,मेरी आख 1 दिन बाद सूज गयी है

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates