Tuesday, May 3, 2011

हेयर कटिंग


कुछ दिनों से मेरे बाल काफी बड़े हो गए थे , पापा का भी यही हाल था .लास्ट संडे को मै और पापा दोनों सैलून में हेयर कटिंग के लिए गए थे . मुंडन के बाद ये मेरा तीसरा हेयर कटिंग था. पापा ने पहले मेरे बाल कटवाए . फिर अपनी कटिंग कराई .

एक खास बात , मै अब पापा के बराबर हो गया हूँ , क्योकि मेरा बाल कटाने के पैसे , पापा के बराबर ही लगा . दोनों के कुल सत्तर रूपये लगे .



Waiting for my Turn


Wait is longer

Getting Ready for Cutting

Taken off



3 comments:

सुशील बाकलीवाल said...

बडे हो गये आप तो फिर तो हेयर कटिंग के समय रोये भी नहीं होंगे । और मजा भी आया होगा ।

क्या हिन्दी चिट्ठाकार अंग्रेजी में स्वयं को ज्यादा सहज महसूस कर रहे हैं ?

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर,

रंजन (Ranjan) said...

बाल मेरे भी बहुत बढ़ गए है..अब भारत आ कर ही कटवाउंगा///

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates