Monday, April 23, 2012

माधव की साइक्लिंग

माधव आज कल साइकिल खूब चला रहे है . स्कुल से आते ही आधा घंटा साइक्लिंग होती है , फिर लंच होता है  फिर छोटा भीम देखते है , उसके बाद जनाब थोड़ी झपकी लेते है . शाम को नींद खुलने के बाद फिर साइक्लिग़ होती है . माधव की साइक्लिग़ से मेरा काम बढ़ गया है . सायकिल में रोज कुछ ना कुछ खराबी आती है जिसे ठीक कराना मेरा मौलिक कर्तव्य बन जाता है . हर दो दिन के बाद टायरो में हवा भी भरवाना  पड़ता है . 


खैर साइक्लिंग करते समय जनाब बहुत खुश होते है और उन्हें खुश देखकर मै भी .........




































2 comments:

"रुनझुन" said...

Very Good Madhav Keep it up!!!!
खूब प्रैक्टिस करो और जल्दी से बिना side wheel के चलाना शुरू कर दो तब देखना तुम्हारी साईकिल हवा से बातें करने लगेगी.... :)

unmukt S said...

साईकिल चलाना तो बहुत अच्छी बात है। मैं भी बहुत से काम साइकिल पर ही करता हूं :-)

एक बात तुम्हारे चिट्ठे के बारे में - नीली पृष्टभूमि पर हलके स्लेटी रंग से लिखवाट, पढ़ने में मुश्किल पड़ती है। आंखें कमजोर हैं - सीनियर सिटिज़न जो हूं।

पापा से कह कर इसे बदलो।

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates