Friday, October 7, 2011

" आज भी रामलीला देखने जाऊँगा "

माधव आज सुबह जब जगे तो कहा " पापा ! आज भी रामलीला देखने जाऊँगा ". कल माधव को लेकर रामलीला देखने गया था . वहा का मेला , झूले और माहौल जनाब को बहुत पसंद आया . दो झूलों का आन्नद भी लिया . तभी मेले की खुमारी आज सुबह तक थी और जगते ही मेला जाने की बात की .

वैसे त्यौहार और मेलो का असली मजा बच्चे ही लेते है . बच्चों को हर नयी चीज अच्छी लगती है . फिर जैसे जैसे बड़े होते जाते है इन चीजों से दिल भरता जाता है . आप मेलो में उम्रदराज आदमी को कम ही देखेंगे .











2 comments:

रावेंद्रकुमार रवि said...

मेरी तरफ से भी सबको शुभकामनाएँ!

Patali-The-Village said...

बहुत अच्छे माधव बेटे खूब मजे लो छुट्टियों के|

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates