Monday, April 11, 2011

अन्ना हजारे जिंदाबाद

शनिवार 09/04/2011 को अन्ना हजारे की जीत को सेलेब्रेट करने मै भी इंडिया गेट गया. वहा पूरा जश्न का माहौल था . हर आदमी लोकपाल बिल पर अन्ना की जीत पर खुश था और लोगो का जोश और जूनून देखने लायक था . वर्ल्ड कप की जीत और अन्ना हजारे की जीत , अप्रैल २०११ की ये दो घटनाए ऐतिहासिक है जो लंबे समय तक याद रखी जायेंगी.अन्ना की जीत का जश्न एक ऐतिहासिक क्षण था जिसका गवाह मै भी बना .

अन्ना हजारे जिंदाबाद






















इंडिया गेट पर आकार एक गेंद खरीदना तो मेरा हक है सो पापा ने हर बार की तरह मेरे अनुरोध पर एक लाल रंग की गेंद खरीद कर मुझे दी .

5 comments:

Kajal Kumar said...

:)

नीरज जाट जी said...

मेरी तरफ से भी जिन्दाबाद।

Patali-The-Village said...

अन्ना हजारे जिंदाबाद! जिंदाबाद!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत खूब!
देश के बच्चे जिन्दाबाद!

Akshita (Pakhi) said...

सुन्दर फोटोग्राफ...बाल भी तो प्यारी है.

 
Copyright © माधव. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block Designed by Santhosh
Distribution by New Blogger Templates